महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी Mahendra Singh Dhoni's biography in hindi - ज्ञानीभारत.com

महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी Mahendra Singh Dhoni’s biography in hindi

0

महेंद्र सिंह धोनी इन हिंदी

महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी जब महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट के मैदान में कदम रखते हैं तो तालियों की गड़गड़ाहट से उनका स्वागत किया जाता है। यह करोड़ों दिलों पर राज करते हैं। उनके फैन्स दुनिया के हर कोने से उनका मैच देखने आते हैं। वह युवाओं के लिए एक प्रेरणा है। धोनी ने अपने जीवन के शुरुआत से मैदान के आखिरी क्षण तक संघर्ष किया है। उन्होंने यह उपलब्धि अपने दम पर हासिल की और उसके लिए एक लंबी यात्रा तय की।


महेंद्र सिंह धोनी ने भारतीय क्रिकेट टीम का पूरी दुनिया में नाम रोशन किया है। उनके खेल के स्टाइल पर हर कोई फिदा है। महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट जगत के वह नाम है, जिन्होंने पूरी दुनिया में एक मिसाल कायम की है। वह क्रिकेट के जादूगर है। इनके आने से भारतीय क्रिकेट ने एक नए अध्याय की शुरुआत की। अपने सोलह साल के कैरियर से 15 अगस्त 2020 को संन्यास ले लिया। अपने संन्यास पर उन्होंने लिखा- “मैं पल दो पल का शायर हूं पल दो पल मेरी कहानी है।” इससे दुनिया के हर कोने में बैठे उनके फैंस को सूचना मिल गई कि अब धोनी थक चुके हैं। अब मैदान में फिर कभी नहीं दिखेंगे। इससे धोनी के करोड़़ों फैंस दुःखी थे। क्योंकि वह करोड़़ों दिलों की धड़क थे। क्या करे यह खेल का मैदान है इससे एक न एक दिन हर किसी को रिटायर होना है।

महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी Mahendra Singh Dhoni’s biography in hindi

हेलों दोस्तों, यदि आप भी मेरी तरह वेबसाइट से पैसा कमाने चाहते हैं तो आप भी ब्लॉग के जरिए पैसा कमा सकते हैं। इसके लिए आप एक अच्छा डोमेन व वेब होस्टिंग Hostgator से खरीद सकते हैं। यह एक अच्छी सेवा प्रदान करती है। यह आपको सस्ते मूल्य पर डोमेन और वेब होस्टिंग देगी। आप डोमेन और वेब होस्टिंग खरीदने के लिए यहां क्लिक करे – https://hostgator-india.sjv.io/c/2442458/594084/7275

महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी Mahendra Singh Dhoni’s biography in hindi

उन्होंने अपने कैरियर में अनेक रिकॉर्ड बनाए। उनके छक्कों को आज भी याद किया जाता है। उनके नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट ने एक के बाद एक ट्रॉफी जीती। यह धोनी ही थे जो क्रिकेट के मैदान में अपना जादू चलाते थे। उनकी रणनीति के सामने बड़े बड़े धुरंधर भी फेल थे। क्रिकेट के मैदान में शांत रहने वाले धोनी को उनके प्रशंसकों ने मिस्टर कूल की उपाधि दी से सम्मानित किया। महेंद्र सिंह धोनी अपने प्रशंसकों को कभी निराश नहीं करते। उनके प्रशंसकों उनके साथ कई बार सेल्फी लेते देखे गए हैं। महेंद्र सिंह धोनी का हेयर स्टाइल काफी लोकप्रिय रहा है। उनके इस स्टाइल पर युवा फिदा थे।

धोनी का जन्म और उनका परिवार Dhoni’s birth and his family

महेंद्र सिंह धोनी प्रतिभा के धनी थे। यह बचपन से ही क्रिकेट के शौकीन थे। भारतीय क्रिकेट में आने के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की। उनको क्रिकेट में जब भी मौका मिला उन्होंने एक अच्छा क्रिकेट खेला। उन्होंने भारत को अपने दम पर कई मैच जीताये और बाद में उनको भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बना दिया गया।

धोनी का जन्म 7 जुलाई 1981 को रांची, बिहार वर्तमान झारखंड राज्य में हुआ था। उनके पिता का नाम पान सिंह और माता का नाम देवकी देवी था। उनके पिता एक सरकारी कर्मचारी थे। यह उत्तराखंड के मूल निवासी थे। बाद में झारखंड में ट्रांसफर हो जाने के कारण यह यही रहने लगे। उनके भाई नरेन्द्र सिंह एक राजनेता हैं और एक बहन जयंती गुप्ता शिक्षिका के पद पर कार्यरत है। महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी का नाम साक्षी है। यह धोनी की बचपन की दोस्त है। बाद में धोनी ने साल 2010 में साक्षी से शादी कर ली। आज उनकी एक बेटी जीवा है। जिससे धोनी बहुत प्यार करते हैं।

क्रिकेट की शुरुआत Start of cricket

महेंद्र सिंह धोनी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा की शुरुआत रांची के डीवी जवाहर विधा मन्दिर से की। यह बचपन से ही खेल के शौकीन थे। यह खेलों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने लगे। यह शुरुआत में फुटबॉल टीम के गोलकीपर थे। लेकिन बचपन से ही धोनी का मन क्रिकेट में था। उनके फुटबॉल कोच ने भी उनको सलाह दी कि वह क्रिकेट खेले। वह जानते थे कि धोनी क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करेगे। यही हुआ महेन्द्र सिंह धोनी ने स्थानीय क्लब की क्रिकेट टीम में अच्छा प्रदर्शन किया और उनको स्थानीय क्लब की क्रिकेट टीम का विकेटकीपर बना दिया गया। धोनी को 1995 से 1998 तक कमांडो क्लब की क्रिकेट टीम का नियमित विकेटकीपर बना दिया गया। क्रिकेट की  शुरुआत रणजी मैच महेन्द्र सिंह धोनी 1995 से 1998 तक स्थानीय क्रिकेट खेलते रहे। 1999 में धोनी वीनू मांकड अंडर 16 चैंपियनशिप का हिस्सा बन गए। उनकी विकेटकीपिंग का हर कोई दिवाना था। यह पलक झपकते ही, बल्लेबाज को स्टम्प कर देते। चयनकर्ता उनके खेेल से प्रभावित हुए।

1999 में इनका सलेक्शन रणजी ट्रॉफी में कर दिया गया। रणजी ट्रॉफी में इनका पहला मैच असम के खिलाफ होना था। महेन्द्र सिंह धोनी ने बिहार टीम की ओर से अच्छा प्रदर्शन किया। इस मैच में उन्होने 68 रन की बेहतरीन पारी खेली। अगला रणजी मैच बंगाल के खिलाफ होना था। दोनों टीम बराबर की थी। बिहार टीम की ओर से धोनी फोम में चल रहे थे। बंगाल के खिलाफ धोनी ने ताबड़तोड़ पारी खेली। इस मैच में धोनी ने शतक लगाया। फिर भी धोनी की टीम इस मैच को हार गई। धोनी ने इस रणजी ट्रॉफी में 5 मैच में कुल 283 बनाये। धोनी को लगता था कि उनको बेहतर प्रदर्शन का इनाम मिलेगा। परंतु धोनी को निराशा मिली उनका चयन ईस्ट जॉन सेलेक्टर द्वारा नहीं किया गया। उन्होंने क्रिकेट से दूरी बना ली। और यह खेल कोटा से खड़गपुर रेलवे स्टेशन पर टिकट क्लेक्टर की नौकरी करने लगे। परंतु धोनी का मन नौकरी में नहीं लगा।

कुछ माह बाद धोनी का चयन 2001 में दिलीफ ट्रॉफी में हो गया। भाग्य ने धोनी का साथ नहीं दिया। धोनी को दिलीफ ट्रॉफी में खेलना था। लेकिन उनको इस बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई। 2003 से 2004 तक धोनी देवधर ट्रॉफी का हिस्सा रहे। वह देवधर ट्रॉफी में पूर्वी जॉन की ओर से खेले। धोनी ने इस ट्रॉफी में बेहतरीन प्रदर्शन किया। उन्होंने इस सत्र में चार मैच खेले और कुल 244 रन बनाए। उनको अच्छे खेल का इनाम मिला। चयनकर्ताओं ने उनका चयन इंडिया ए के लिए कर दिया। इंडिया ए में उन्होंने विकेटकीपिंग की भूमिका निभाई। जिम्बाब्वे के विरुद्ध खेले गए मैच में उन्होंने दर्शकों का दिल जीत लिया। अगला मैच पाकिस्तान ए के विरुद्ध खेला गया। इस मैच में धोनी ने ताबड़तोड़ अर्धशतकीय पारी खेली और भारतीय टीम को जीताया।

अंतरराष्ट्रीय वन डे टीम में सेलेक्शन Selection in international one day team

महेंद्र सिंह धोनी ने अब पीछे मुड कर नहीं देखा। 2004 में चयनकर्ताओं ने उनका सिलेक्शन अंतरराष्ट्रीय वन डे मैच में के लिए कर दिया। यह सौरव गांगुली की पसंद थे। गांगुली चाहते थे कि धोनी इस मैच में विकेटकीपर बने। उनको अपना पहला वन डे मैच बांग्लादेश के विरुद्ध खेलना था। इस मैच में धोनी पूरी तरह तैयार थे। वह कुछ नया करना चाहते थे। भाग्य ने उनका साथ नहीं दिया और वह जीरो पर आउट हो गए। चयन समिति ने उन पर दोबारा भरोसा जताया और उनका सिलेक्शन पाकिस्तान के विरुद्ध कर दिया।

इस मैच में धोनी ने ऐसा जादू किया कि पाकिस्तान टीम चारों खाने चित्त हो गई। यह धोनी का प्रथम मैच था जिसमें उन्होंने 148 रनों की सर्वोच्च पारी खेली। यह भारतीय टीम के किसी विकेटकीपर का सर्वोच्च स्कोर था। 2019 का वर्ल्ड कप सेमफाइनल  उनका अंतिम मैच था। इस मैच में धोनी ने एक बेहतरीन पारी खेली और अंत में जीत के नजदीक जाने के बाद रन आउट हो गए। यह पहला मैच था जिसमें धोनी रोए थे। धोनी ने अपने अंतरराष्ट्रीय वन डे करियर में 350 मैचों में 50.53 की औसत से 10773 रन बनाए। इसमें उनके 10 शतक और 72 अर्धशतक शामिल है। उनका सर्वोच्च स्कोर 183 रन है जो उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ 2005 में लगाया था। वह 10000 हजार रन बनाने वाले 12 वें बल्लेबाज है। छठें नम्बर पर आकर इतने रन बनाना एक बड़ी उपलब्धि है।

अंतरराष्ट्रीय टेस्ट टीम में सेलेक्शन Selection in international test team

धोनी टेस्ट टीम का भी हिस्सा रहे हैं। उन्होंने अपना पहला मैच श्रीलंका के खिलाफ 2005 में खेला। जिसमें वह कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए और 35 रन पर आउट हो गए। 2006 में धोनी पाकिस्तान के खिलाफ खेले। इस मैच में धोनी ने शतकीय पारी खेली। टेस्ट क्रिकेट में लंबी सेवा देने के बाद अब धोनी थक चुके थे। इसलिए उन्होंने 2014 में अपना अंतिम टेस्ट मैच आस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न में खेला। इसके बाद धोनी ने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया। धोनी ने अपने टेस्ट करियर में 90 टेस्ट मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 144 पारियों में 6 शतक और 33 अर्धशतक की बदौलत 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए। उनका सर्वोच्च स्कोर 244 रन है। यह स्कोर धोनी ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाया था। अंतरराष्ट्रीय ट्वेंटी मैच

अंतरराष्ट्रीय ट्वेंटी मैच international twenty match

धोनी ने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय ट्वेंटी ट्वेंटी मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला। इस मैच में धोनी कुछ खास नहीं कर पाए। आखिरी ट्वेंटी अंतरराष्ट्रीय मैच फ़रवरी 2019 को आस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरु में खेला। धोनी ने अपने ट्वेंटी करियर में 98 मैच खेले हैं। इन मैचों की बदौलत 37.6 की औसत से 1617 रन बनाए। जिसमें 2 अर्धशतक शामिल है। 

धोनी का आईपीएल करियर Dhoni’s IPL career

धोनी दुनिया के सबसे सफल क्रिकेटर है। धोनी आईपीएल मैचों के इतिहास में काफी लोकप्रिय  हैं। आईपीएल में वह चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान हैं। आईपीएल में वह तीन बार चेन्नई सुपर किंग्स को ट्रॉफी दिला चुके हैं। धोनी ने आईपीएल के 12 सीजन में 190 मैच खेले हैं जिसमें 42.20 की औसत से 3215 रन बनाए  हैं। उनका सर्वोच्च स्कोर 84 रन है। इसमें 23 अर्धशतक भी शामिल है। 

महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी Mahendra Singh Dhoni’s biography in hindi

धोनी के वर्ल्ड रिकॉर्ड Dhoni’s world record

  • महेंद्र सिंह धोनी वर्ल्ड कप – 2011, ट्वेंटी वर्ल्ड कप 2007, चैंपियन ट्रॉफी 2013 जीतने वाले दुनिया के एकमात्र कप्तान है।
  • धोनी को साल 2007 में भारतीय क्रिकेट टीम का कप्तान बनाया गया। राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर उनके खेल से प्रभावित थे। 2008 में इनको तीनों प्रारूपों का कप्तान बना दिया गया।
  • धोनी के प्रबल नेतृत्व की मदद से भारतीय क्रिकेट टीम ने विश्व टेस्ट रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।
  • 31 अक्टूबर 2005 को खेली गई वन डे पारी को आज भी याद किया जाता है। इस मैच में धोनी ने श्रीलंका के खिलाफ 183 की नाबाद पारी खेली। यह क्रिकेट के इतिहास में किसी विकेटकीपर द्वारा बनाया गया सर्वोच्च स्कोर था। यह रिकॉर्ड शायद ही कोई तोड़ पाए। इस मैच में धोनी मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज चुने गए।
  • महेंद्र सिंह धोनी का पाकिस्तान के खिलाफ सर्वोच्च स्कोर 148 रन है। यह इतना बड़ा स्कोर बनाने वाले प्रथम भारतीय विकेटकीपर है।
  • धोनी को खेल के सबसे बड़े पुरस्कार राजीव गांधी खेल पुरस्कार-2007 से सम्मानित किया गया। 
  • 2007 के आईसीसी ट्वेंटी वर्ल्ड कप में भारतीय क्रिकेट टीम ने धोनी के नेतृत्व में पाकिस्तान को 5 रन से हराया और विश्व विजेता बनी।
  • महेंद्र सिंह धोनी वन डे मैच में एक मैच सबसे ज्यादा 10 छक्के लगाने का प्रथम भारतीय क्रिकेटर है।
  • महेंद्र सिंह धोनी भारत के सबसे ज्यादा उम्र तक कप्तानी करने वाले खिलाड़ी है। उन्होंने 200 मैचों में कप्तानी की है। इनमें से 111 मैचों में जीत दिलाई।
  • धोनी ने वन डे मैच में एक मैच में सबसे ज्यादा 10 छक्के लगाए। यह उपलब्धि हासिल करने वाले प्रथम भारतीय क्रिकेटर है। महेंद्र सिंह धोनी एक सफल कप्तान के साथ एक सफल विकेटकीपर भी हैं।
  • उन्होने अपने करियर में 300 से ज्यादा कैच लपके और विकेट के पीछे 100 स्टम्प किए हैं।
  • 2006 की विश्व वन डे रैंकिग में धोनी शीर्ष पर कायम रहे। क्रिकेट के इतिहास में उनकी सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग है।
  • धोनी ने अपनी करिश्माई बल्लेबाजी से एक वन डे मैच में 15 चक्कों और 10 छक्कों की मदद से 120 रन बनाए। क्रिकेट जगत में एक नया कीर्तिमान है।
  • धोनी को 2011 में वर्ल्ड के 100 सबसे आकर्षक लोगों की श्रेणी में रखा गया।
  • महेंद्र सिंह धोनी दूसरे खिलाड़ी है जिन्हें इंडियन आर्मी का सम्मान प्राप्त है। इससे पहले यह सम्मान पूर्व कप्तान कपिल देव दिया गया।

हैलो दोस्तों, आपको हमारी यह पोस्ट महेंद्र सिंह धोनी बायोग्राफी इन हिंदी कैसी लगी यदि आपको मेरी यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो कमेंट करे और सोशल मीडिया पर शेयर जरुर करें। अधिक जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट ज्ञानीभारत.com को विजिट करे। जहां आपको महत्वपूर्ण जानकारी मिलती रहेगी।

अन्य पोस्ट भी पढ़े

Please Post Your Comments & Reviews

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: