class="post-template-default single single-post postid-132 single-format-standard left-sidebar has-sidebar">

स्टीफन हॉकिंग

स्टीफन हॉकिंग

कहते हैं कि डर मनुुष्य को कमजोर बना देता है और चिंता मनुष्य को चिता में तब्दील कर देेेती है, लेकिन जो व्यक्ति प्रबल इच्छा के होते हैं, वह मौत को भी छूठा साबित कर देेेते हैं। स्टीफन हॉकिंग ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया, जो पूरी दुनिया के लिए प्रेेरणादायक बन गए। खुद को नास्तिक मानने वाले वैज्ञानिक, भौतिकशास्त्री स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी, 1942 को ऑक्सफोर्ड, यूके में हुआ था। खुशी – खुशी अपनी प्रारंभिक जिंदगी के 21 बरस पूरे करने के बाद, हॉकिंग 1963 में एक लाइलाज बीमारी से ग्रस्त हो गए, जिससे उनका पूरा शरीर लकवाग्रस्त हो गया, केवल दिमाग ही शेष था जिससे वह सोच विचार कर सकते थे। अब वह पूरी तरह व्हीलचेयर पर थे। उस दौरान डॉक्टर ने बताया कि स्टीफन हॉकिंग को मोटर न्यूरोन नामक बीमारी है और वह ज्यादा से ज्यादा 2 साल तक ही जीवित रह पाएंगे। लेकिन स्टीफन हॉकिंग ने डॉक्टर की भविष्यवाणी को झूठा साबित किया और अपनी दृढ़ इच्छा से एक लम्बा जीवन जिया। वह 76 साल की उम्र में इस दुनिया को अलविदा कह गए। उन्होंने बताया कि वह कभी मौत से नहीं डरते, लेकिन उनकी इच्छा प्रबल थी, जिससे वह इतना लंबा जीवन जी गए। वह दुनिया को संकेत दे गए कि दृढ़ इच्छा मनुष्य को मजबूती देती हैं, इसलिए मनुष्य को कभी हिम्मत नहीं हरनी चाहिए और न ही दुनिया में कुछ भी असंभव है। भले ही साइंस ईश्वर की सत्ता को नहीं मानता, लेकिन यह भी सत्य है कि जहां साइंस खत्म होता है, वहां से चमत्कार शुरू होता है। जो इस संसार में आया है उसकी मृत्यु निश्चित है यह जीवन का वास्तविक सत्य है। लेकिन जो प्रबल इच्छा शक्ति के होते हैं वह मृत्यु को भी मात देते हैं, जैसे स्टीफन हॉकिंग ने कर दिखाया।

जीवन के 50 साल व्हीलचेयर पर बीताने वाले हॉकिंग ने कुछ ऐसी खोजे की, जिससे पूरी दुनिया अचंभित हो गई। उन्हें यूनिवर्स के संबंध में गजब की समझ थी। वह करोड़ों युवा के लिए प्रेरक बन गए। इन्होंने ब्रह्माण की गूथी को सुलझाने में मदद की और ब्लैक हॉल व बिग बैंग थ्योरी सिद्धांत को समझाया। इनकी प्रसिद्ध पुस्तक ‘ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ विश्व प्रसिद्ध रही। इसकी एक करोड़ से ज्यादा प्रतिलिपि बिक चुकी है। यह पुस्तक गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी शामिल है।

हॉकिंग की बिग बैंग थ्योरी

स्टीफन हॉकिंग ने बताया कि 15 अरब साल पहले ब्रह्मांड छोटे आकार में बढ़ना शुरू हुआ और फिर ज्यादा बल और तापमान के दम पर बढ़ना शुरू हुआ। इसके बाद अणुओं का आपस में मिलना शुरू हुआ। फिर इसका विघटन शुरू हुुआ‌ जिससे तारे, ग्रह और आकाशगंगा की उत्पत्ति हुई। हॉकिंग नेेेे बताया कि बिग बैंग से पहले समय नहीं था । उन्होंने बिग बैंग को ब्रह्मांड की उत्पत्ति कारण माना ‌। उन्होंने बताया कि ईश्वर ने ब्रह्मांड की उत्पत्ति नहीं की बल्कि इसकेेे पीछे बिग बैंग है। ब्रह्मांड की उत्पत्ति के समय संसार केेेे सभी भौतिक तत्व और ऊर्जा एक ही बिंदु पर केंद्रित थी, इसके फैलने से ही ब्रह्मांड की उत्पत्ति हुई।

हॉकिंग के प्रेरणादायक विचार

“मैं पिछले 50 साल से मरने का अनुमान लगा रहा हूं, मैं मौत से नहीं डरता, लेकिन मुझे मरने की कोई जल्दी नहीं, मुझे मरने सेे पहले अपनी जिंदगी में बहुत काम करने हैं।”

“मेरा मानना है कि ऐसी कोई चीज नहीं जो असंभव हो, क्योंकि चीजें खुद को असंभव नहीं बना सकती।”

“अगर आप बदलाव चाहते हैं तो पहले अपनी बुद्धि को विकसित करें।”

“बिना काम के व्यक्ति का जीवन खाली हेै, काम जीवन का अर्थ और उद्देश्य देता है।”

“हमें सदैव आकाश की ओर देखना चाहिए, पैरों की तरफ नहीं।”

हॉकिंग की किताबें 

ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम

थ्योरी आफ एवरीथिंग 

ब्लैक होल्स 

www.ज्ञानीभारत.com


2 thoughts on “स्टीफन हॉकिंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: