अब्दुल कलाम के कोट्स - ज्ञानीभारत.com

अब्दुल कलाम के कोट्स

https://www.ज्ञानीभारत.com

अब्दुल कलाम के कोट्स

अब्दुल कलाम के कोट्स : युवाओं के प्रेरणादायक और महान वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था। यह एक मुस्लिम परिवार में पैदा हुए थे। उनका पूरा नाम डॉ अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था। उनके पिता का नाम जैनुलअबिदीन और माता का नाम आशियम्मा था। उनके पिता किराए पर नाव देकर घर चलाते थे। कलाम के माता पिता ईमानदार और आदर्शशील व्यक्ति थे। कलाम पर माता पिता के उच्च आदर्शों का प्रभाव पड़ा। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त करने के लिए कठिन संघर्ष किया। बचपन में कलाम अखबार वितरण का कार्य करते थे। इससे जो पैसा कमाते, उसे अपनी पढ़ाई लिखाई पर खर्च करते थे।

अब्दुल कलाम के कोट्स

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

यह ईमानदार और प्रतिभा के धनी थे। उनको यह गुण अपने माता पिता से विरासत में मिले थे। इनकी माता एक धार्मिक महिला थी और भगवान पर उनकी पूर्ण आस्था थी। कलाम जी ने प्रारंभिक शिक्षा रामेश्वरम के प्राथमिक स्कूल से पूरी की। आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने रामनाथपुरम के हाईस्कूल में प्रवेश लिया। जहां से कलाम जी ने मैट्रिकुलेशन की शिक्षा उत्तीर्ण की। कलाम जी ने 1950 में सेंंट जोसेफ कॉलेज में बीएससी में दाखिला ले लिया। बीएससी पूरी करने के बाद उन्होंने मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिला लिया जहां से उन्होंने तकनीकी शिक्षा प्राप्त की। वैमानिकी तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के बाद 1958 में कलाम जी निदेशालय के तकनीकी केंद्र में एक वरिष्ठ वैज्ञानिक के रूप में कार्य करने लगे। अपनी पद की जिम्मेदारी संभालने के साथ साथ कलाम जी वैज्ञानिक खोजों में दिन रात लगे हुए थे। यही पर उन्होंने अपनी टीम के साथ अल्ट्रासोनिक लक्ष्यभेदी विमान का डिजाइन तैयार किया। 1969 में उन्हें ISRO ( भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन) भेज दिया गया जहाँ उन्होंने परियोजना निदेशक के पद पर कार्य किया। उन्होंने पहला उपग्रह प्रक्षेपण यान (एसएलवी 3) और ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (PSLV) को बनाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया जिनका प्रक्षेपण बाद में सफल हुआ। सन 1982 में कलाम जी ने रोहिणी उपग्रह को सफतापूर्वक अंतरिक्ष में प्रक्षेपित किया। आगे चलकर उन्होंने अग्नि और पृथ्वी प्रेक्षापास्त्रों का आविष्कार कर भारत को साइंस की दुनिया में एक नई पहचान दी। कलाम जी ने 1998 में पोखरन परमाणु परीक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई इसके बाद उन्हें मिसाइल मैन कहा जाना लगा। सन 2002 में डॉ एपीजे अब्दुल कलाम भारत के 11वें राष्ट्रपति बने। कलाम जी एक वैज्ञानिक के साथ – साथ शिक्षक और लेखक भी थे। उनकी किताब ‘विंग्स ऑफ फायर’ युवाओं का मार्गदर्शन करती है। कलाम जी के जन्मदिवस ( 15अक्टूबर)  को हर साल विश्व छात्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। 2015 में भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलांग में एक व्याखान देते समय दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गई। 

अब्दुल कलाम के कोट्स

सपने वो नहीं जो हम नींद में देखते हैं सपने वो हैं जो हमें सोने नहीं देते।

एपीजे अब्दुल कलाम

यदि हम आजाद नहीं है तो कोई भी हमारा सम्मान नहीं करेगा।

एपीजे अब्दुल कलाम

लक्ष्य तक पहुँचने के लिए ताकत चाहिए होती है, चाहे वो आपका पेशा हो या माउन्ट एवरेस्ट का शिखर।

एपीजे अब्दुल कलाम

उत्कृष्टता एक सतत् प्रक्रिया है, कोई दुर्घटना नहीं

एपीजे अब्दुल कलाम

इंग्लिश जरूरी है क्योंकि वर्तमान में साइंस के मूल काम इंग्लिश में है। विश्वास है कि अगले दो दशक में साइंस के मूल काम हमारी भाषाओं में आने शुरू हो जाएंगे तब हम भी जापानियों की तरह आगे बढ़ेगे।

एपीजे अब्दुल कलाम

भारत में हम बस आतंकवाद, मौत, बीमारी और अपराध के बारे में पढ़ते हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

ग्रेट सपने देखने वालों के ग्रेट सपने सदैव पूरे होते हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

हमें अपने आज का बलिदान करना होगा, तभी हमारे बच्चों का कल बेहतर होगा।

आसमान में उड़ने वाला पक्षी अपने ही जीवन और प्रेरणा से संचालित होता है।

एपीजे अब्दुल कलाम

आकाश की तरफ देखिए हम अकेले नहीं हैं सारा ब्रह्माण्ड हमारे लिए अनुकूल है और जो सपने देखते हैं और मेहनत करते हैं उन्हें प्रतिफल देने साजिश करता है।

एपीजे अब्दुल कलाम

एक लीडर में विजन और पैशन होना चाहिए और उसे किसी समस्या से डरना नहीं चाहिए, बल्कि उसे पता होना चाहिए कि इसे हराना कैसे हैं। सबसे ज़रूरी है कि उसे ईमानदारी के साथ काम करना चाहिए।

एपीजे अब्दुल कलाम

संघर्ष के बिना सफलता का आनंद नहीं लिया जा सकता।

एपीजे अब्दुल कलाम

नकली सुख की बजाए ठोस उपलब्धियों के पीछे समर्पित रहिए।

एपीजे अब्दुल कलाम

राष्ट्र का निर्माण लोगों से होता है और उनके प्रयास से कोई राष्ट्र जो कुछ भी चाहता है उसे प्राप्त कर सकता हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

यदि किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त और सुन्दर-मन वाले लोगों का देश बनाना है तो मेरा दृढ़तापूर्वक मानना है कि समाज के तीन प्रमुख सदस्य पिता, माता और गुरु इस कार्य को पूरा कर सकते हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

इससे पहले कि सपने सच हो आपको सपने देखने होंगे।”

एपीजे अब्दुल कलाम

एक अच्छी पुस्तक हज़ार दोस्तों के बराबर होती है जबकि एक अच्छा दोस्त एक लाइब्रेरी के बराबर होता है।

एपीजे अब्दुल कलाम

आप अपनी जॉब से प्यार करें, अपनी कम्पनी से नहीं, क्योंकि आप नहीं जानते की कब आपकी कम्पनी आपको प्यार करना बंद कर दे।

एपीजे अब्दुल कलाम

जब हमारे सिग्नेचर, ऑटोग्राफ में बदल जाए तो यह सफलता की निशानी।

एपीजे अब्दुल कलाम

देश का सबसे अच्छा दिमाग, क्लास रूम की आखरी बेंचो पर मिल सकता है।

एपीजे अब्दुल कलाम

सफलता की कहानियां पढ़ने से अच्छा है कि आप असफलता की कहानियां पढ़े, उससे आपको सफल होने के विचार मिलेंगे।

एपीजे अब्दुल कलाम

जब हम रोज की समस्याओ से घिरे रहते हैं तो हम उन अच्छी चीज़ों को भूल जाते हैं जो हम में मौजूद है।” 

एपीजे अब्दुल कलाम

हमें निरन्तर हो रही असफलताओं से निराश नहीं होना चाहिए, क्योंकि कभी कभी गुच्छे की आखरी चाभी भी ताला खोल देती है।

एपीजे अब्दुल कलाम

यदि तुम सूर्य की तरह चमकना चाहते हो तो पहले सूर्य की तरह जलना सीखो।

एपीजे अब्दुल कलाम

मैं इस बात को स्वीकार करता हूं कि मैं कुछ चीजों को नहीं बदल सकता।

एपीजे अब्दुल कलाम

लक्ष्य में सफलता तभी मिलती है जब हम अपने लक्ष्य के प्रति एकचित्त निष्ठावान होते हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

भले ही हमारे पास बराबर प्रतिभा न हो, परंतु प्रतिभा को विकसित करने का हमारे पास बराबर मौका है।

एपीजे अब्दुल कलाम

भारत को भी इस विश्व में पावरफुल बनना होगा। तभी हमारा सम्मान होगा, यह संसार है यहां डर के लिए कोई जगह नहीं है, शक्ति ही शक्ति का सम्मान करती है।

एपीजे अब्दुल कलाम

जो व्यक्ति इंतजार करते हैं, उन्हें उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं।

एपीजे अब्दुल कलाम

प्रश्न पूछना छात्र की महत्वपूर्ण विशेषता है, इसलिए छात्रों को प्रश्न पूछने चाहिए।

एपीजे अब्दुल कलाम

साइंस मानवता के लिए एक अच्छा उपहार है, हमें इसे बिगाड़ना नहीं चाहिए।

एपीजे अब्दुल कलाम

छोटा लक्ष्य अपराध है, महान लक्ष्य होना चाहिए।

एपीजे अब्दुल कलाम

ज्ञान, करुणा और जुनून एक महान शिक्षक के गुण है।

एपीजे अब्दुल कलाम

हमें एक समृद्ध और सुरक्षित भारत का निर्माण करना होगा, तभी हमारी पीढ़ी हमें याद करेगी।

एपीजे अब्दुल कलाम

हम अपना भविष्य नहीं बदल सकते, लेकिन आदत बदल सकते हैं, आदत ही हमारे भविष्य का निर्माण करती है।

एपीजे अब्दुल कलाम

हमारे हृदय की सत्यता घर में सामंजस्य बैठाती है, घर में सामंजस्य से देश में एक व्यवस्था बनती है, देश में व्यवस्था से दुनिया में शांति होती है।

एपीजे अब्दुल कलाम

मुझे विश्वास है कि जब तक किसी ने असफलता की कड़वी गोली न खाई हो, वो सफलता के लिए पर्याप्त महत्वकांक्षा नहीं रखता।

एपीजे अब्दुल कलाम

मेरा सपना पायलट बनना था, लेकिन भाग्य को कुछ ओर ही मंजूर था।

युद्ध किसी समस्या का समाधान नहीं है।

एपीजे अब्दुल कलाम

परमात्मा कण – कण में मौजूद है।

एपीजे अब्दुल कलाम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *